मंत्रिमंडल समितियों का पुनर्गठन

सरकार ने मंत्रिमंडल की आठ समितियों का पुनर्गठन किया है।

मंत्रिमंडल की नियुक्ति समिति
सदस्‍य- प्रधानमंत्री, गृह मंत्री अमित शाह,

आवास मामलों की मंत्रिमंडल समिति
सदस्‍य- गृह मंत्री, अमित शाह, सडक परिवहन और राजमार्ग तथा सूक्ष्‍म, लघु और मध्‍यम उपक्रम मंत्री नितिन जयराम गडकरी, वित्‍त और कंपनी मामलों की मंत्री श्रीमती निर्मला सीतारामन, रेल तथा वाणिज्‍य और उद्योग मंत्री श्री पीयूष गोयल।
विशेष आमंत्रित सदस्‍य – पूर्वोत्‍तर क्षेत्र विकास, प्रधानमंत्री कार्यालय में राज्‍यमंत्री, कार्मिक जनशिकायत और पेंशन, परमाणु ऊर्जा विभाग और अंतरिक्ष विभाग में राज्‍यमंत्री श्री जितेन्‍द्र सिंह, आवास और शहरी मामलों के राज्‍यमंत्री (स्‍वतंत्र प्रभार), नागरिक उड्डयन राज्‍यमंत्री तथा वाणिज्‍य और उद्योग राज्‍यमंत्री श्री हरदीप सिंह पुरी।

आर्थिक मामलों की मंत्रिमंडल समिति
सदस्‍य – प्रधानमंत्री, रक्षा मंत्री श्री राजनाथ सिंह, गृह मंत्री श्री अमित शाह, सडक परिवहन और राजमार्ग तथा सूक्ष्‍म, लघु और मध्‍यम उपक्रम मंत्री नितिन जयराम गडकरी, रसायन और उर्वरक मंत्री श्री डी वी सदानंद गौड़ा, वित्‍त और कंपनी मामलों की मंत्री श्रीमती निर्मला सीतारामन, कृषि और किसान कल्‍याण, ग्रामीण विकास तथा पंचायतीराज मंत्री नरेन्‍द्र सिंह तोमर, संचार और सूचना प्रौद्योगिकी तथा विधि और न्‍याय मंत्री रवि शंकर प्रसाद, खाद्य प्रसंस्‍करण मंत्री श्रीमती हरसिमरत कौर बादल, विदेश मंत्री डॉ. एस जयशंकर, रेल तथा वाणिज्‍य और उद्योग मंत्री पीयूष गोयल, पेट्रोलियम तथा प्राकृतिक गैस और इस्‍पात राज्‍य मंत्री (स्‍वतंत्र प्रभार) धर्मेन्‍द्र प्रधान,

संसदीय मामलों की मंत्रिमंडल समिति
सदस्‍य – गृह मंत्री, अमित शाह, वित्‍त और कंपनी मामलों की मंत्री श्रीमती निर्मला सीतारामन, खाद्य और उपभोक्‍ता मामले तथा सार्वजनिक वितरण मंत्री श्री रामविलास पासवान, ग्रामीण विकास तथा पंचायतीराज मंत्री नरेन्‍द्र सिंह तोमर, संचार और सूचना प्रौद्योगिकी तथा विधि और न्‍याय मंत्री रवि शंकर प्रसाद, सामाजिक न्‍याय और अधिकारिता मंत्री श्री थावरचंद गहलोत, सूचना प्रसारण, पर्यावरण, वन तथा जलवायु परिवर्तन मंत्री श्री प्रकाश जावडेकर और संसदीय मामले तथा कोयला और खान मंत्री श्री प्रह्लाद जोशी।

विशेष आमंत्रित सदस्‍य- संसदीय मामले तथा भारी उद्योग और सार्वजनिक उपक्रम राज्‍य मंत्री श्री अर्जुन राम मेघवाल, संसदीय मामलों के तथा विदेश मंत्रालय में राज्‍यमंत्री श्री वी मुरलीधरन

राजनीतिक मामलों की मंत्रिमंडल समिति
सदस्‍य – प्रधानमंत्री, गृह मंत्री श्री अमित शाह, सडक परिवहन और राजमार्ग तथा सूक्ष्‍म, लघु और मध्‍यम उपक्रम मंत्री नितिन जयराम गडकरी, वित्‍त और कंपनी मामलों की मंत्री श्रीमती निर्मला सीतारामन, खाद्य और उपभोक्‍ता मामले तथा सार्वजनिक वितरण मंत्री श्री रामविलास पासवान, कृषि तथा किसान कल्‍याण तथा ग्रामीण विकास और पंचायतीराज मंत्री नरेन्‍द्र सिंह तोमर, संचार और सूचना प्रौद्योगिकी तथा विधि और न्‍याय मंत्री रवि शंकर प्रसाद, खाद्य प्रसंस्‍करण मंत्री श्रीमती हरसिमरत कौर बादल, स्‍वास्‍थ्‍य और परिवार कल्‍याण तथा विज्ञान, प्रौद्योगिकी तथा पृथ्‍वी विज्ञान मंत्री डॉ. हर्षवर्द्धन, रेल, वाणिज्‍य और उद्योग मंत्री श्री पीयूष गोयल, भारी उद्योग और सार्वजनिक उपक्रम मंत्री श्री अरविंद गणपत सावंत, संसदीय मामले तथा कोयला और खान मंत्री श्री प्रह्लाद जोशी,

सुरक्षा मामलों की मंत्रिमंडल समिति
सदस्‍य – प्रधानमंत्री, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, गृहमंत्री अमित शाह, वित्‍त्‍ और कंपनी मामलों की मंत्री श्रीमती निर्मला सीतारामन, विदेश मंत्री डॉ. एस जयशंकर

विकास मामलों की मंत्रिमंडल समिति
सदस्‍य – प्रधानमंत्री, गृहमंत्री अमित शाह, सडक परिवहन और राजमार्ग तथा सूक्ष्‍म, लघु और मध्‍यम उपक्रम मंत्री नितिन जयराम गडकरी, वित्‍त और कंपनी मामलों की मंत्री श्रीमती निर्मला सीतारामन, रेल, वाणिज्‍य और उद्योग मंत्री श्री पीयूष गोयल,

कौशल विकास की मंत्रिमंडल समिति
सदस्‍य – प्रधानमंत्री, गृहमंत्री अमित शाह, वित्‍त्‍ और कंपनी मामलों की मंत्री श्रीमती निर्मला सीतारामन, कृषि और किसान कल्‍याण तथा ग्रामीण विकास तथा पंचायतीराज मंत्री नरेन्‍द्र सिंह तोमर, रेल तथा वाणिज्‍य और उद्योग मंत्री पीयूष गोयल, मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक, तेल, प्राकृतिक गैस तथा इस्‍पात मंत्री श्री धर्मेन्‍द्र प्रधान, कौशल विकास और उद्यमिता मंत्री डॉ. महेन्‍द्र नाथ पांडे, श्रम एवं रोजगार राज्‍यमंत्री (स्‍वतंत्र प्रभार) संतोष कुमार गंगवार, आवास और शहरी मामलों के राज्‍यमंत्री (स्‍वतंत्र प्रभार), नागरिक उड्डयन राज्‍यमंत्री(स्‍वतंत्र प्रभार), तथा वाणिज्‍य और उद्योग मंत्रालय में राज्‍यमंत्री श्री हरदीप सिंह पुरी,

विशेष आमंत्रित सदस्‍य – सडक परिवहन और राजमार्ग तथा सूक्ष्‍म, लघु और मध्‍यम उपक्रम मंत्री नितिन जयराम गडकरी, खाद्य प्रसंस्‍करण मंत्री श्रीमती हरसिमरत कौर बादल, महिला, बाल विकास और कपड़ा मंत्री श्रीमती स्‍मृति जुबिन इरानी, संस्‍कृति और पर्यटन राज्‍य मंत्री (स्‍वतंत्र प्रभार) श्री प्रह्लाद सिंह पटेल।

भारत में मंत्रिमंडल समितियों के संदर्भ में निम्नलिखित बातें उल्लेखनीय हैं-
अभिलक्षणः समितियां संविधानेत्तर हैं। दूसरे शब्दों में, संविधान में उनका उल्लेख नहीँ किया गया है। तथापि इनकी स्थापना हेतु कार्य संचालन संबंधी नियमावली का प्रावधान है।
मंत्रिमंडलीय समितियों के प्रकार-
मंत्रिमंडलीय समितियां दो प्रकार की होती हैं।
स्थायी समिति – स्थायी समिति की प्रकृति नाम अनुरूप होती है तथा मंत्रिमंडल समितियों का गठन प्रधानमंत्री द्वारा समय और परिस्थिति की अपेक्षाओं के अनुसार किया जाता है। इसलिए इनकी संख्या, इनके नाम और उनकी संरचना समय-समय पर भिन्न होती है। इन समितियों में सदस्यों की संख्या 3 से 8 तक हो सकती है। इनमें प्रायः कैबिनेट स्तर के मंत्री होते हैं। तथापि उन मंत्रियों को इन समितियों में शामिल करने की मनाही नहीं है जिनको कैबिनेट मंत्री का दर्जा प्राप्त नहीं है। इन समितियों में केवल संबद्ध विषय से संबंधित प्रभारी मंत्री शामिल नहीं होते अपितु अन्य वरिष्ठ मंत्री भी होते हैं। इन समितियों की अध्यक्षता प्रायः प्रधानमंत्री द्वारा की जाती है। कभी-कभी गृह मंत्री तथा वित्त मंत्री भी इन समितियों की अध्यक्षता करते हैं, किंतु प्रधानमंत्री यदि समिति का सदस्य है तो उसकी अध्यक्षता वही करता है। ये समितियां केवल माम लों का निपटान ही नहीं करतीं अपितु मंत्रिमंडल के विचारार्थ प्रस्ताव भी तैयार करती हैं और निर्णय भी लेती हैं। तथापि मंत्रिमंडल इन समितियों द्वारा लिए गए निर्णय की समीक्षा कर सकता है। ये समितियां मंत्रिमंडल के कार्यभार को कम करने संबंधी सांगठनिक तंत्र है। ये समितियां नीतिगत मामलों की गहन परीक्षा और प्रभावी समन्वय कार्य को भी सुगम बनाती है। समितियां श्रम विभाजन और प्रभावी प्रत्यायोजन के सिद्धांत पर आधारित हैं।
तदर्थ समिति- तदर्थ समिति की प्रकृति और अस्थायी है। विशेष समस्याओं से निपटने के लिए समय-समय पर तदर्थ समितियां गठित की जाती हैं। कार्य समाप्त होने पर इन समितियों का अस्तित्व नहीं रहता है। उदाहरणार्थ सन् 1962 में चीनी आक्रमण के बाद आपातकालीन समिति गठित की गई थी।

Author: Vikas Parakh