अमेरिका, जापान में छाया छत्तीसगढ़ का मुनगा और तुलसी, तीन गुना बढ़ी मांग

छत्तीसगढ़ छत्तीसगढ़ समसामयिक

रायपुर। कोरोना काल में पोषक तत्वों और औषधीय गुणों से भरपूर छत्तीसगढ़ के मुनगा (सहजन) और तुलसी की मांग अंतराष्ट्रीय बाजार में तीन गुना बढ़ गई है। छत्तीसगढ़ के किसान मुनगा और तुलसी की खेती करके इसके कच्चे और निर्मित उत्पादों को जर्मनी, फ्रांस, अमेरिका जैसे बड़े देशों की कंपनियों को निर्यात कर रहे हैं। एक साल के भीतर अकेले विदेशों में करीब 200 टन माल भेजा गया है। स दौरान 150 टन मुनगा की पत्तियां और उसके उत्पाद और 50 टन तुलसी मार्च 2021 तक भेजा गया है। इससे पहले तक 40 टन मुनगा की पत्तियां और उसके उत्पाद और 20 टन तुलसी भेजी जा रही थी। अभी तुलसी का काढ़ा, तुलसी की चाय, तुलसी का अर्क निकालकर भेज रहे हैं। मुनगे का पाउडर, कैप्शूल, टेबलेट, एनर्जीवार बनाकर बाहर भेज रहे हैं। मुनगे की भी चाय बना रहे हैं। तुलसी और मुनगे के पत्तियां भी भेज रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *