आपका आभार

कवर स्टोरी छत्तीसगढ़ छत्तीसगढ़ राष्ट्रीय समसामयिक

सफलता में सहयोगी बने विकास परख
विकास परख अपने प्रकाशन के छह वर्ष पूरा कर इस अंक से सातवें सोपान पर कदम रख रहा है। जब हमने इस मासिक पत्रिका को प्रारंभ किया तब हमारे मन में केवल यही भाव था कि छत्तीसगढ़ में होने वाली विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए सम-सामयिक एवं अन्य छत्तीसगढ़ के इतिहास, भूगोल, कला, संस्कृति आदि विषयों की प्रामाणिक तथ्य सहित विस्तृत जानकारियां छात्रों को नहीं मिल पाती थी। हमने हमेशा प्रदेश के युवाओं जिन्हें शासकीय सेवा में जाने की आकांक्षा होती है, उनका सहयोग करने का प्रयास किया। हमें प्रतियोगी छात्रों से भी भरपूर समर्थन मिला, जिसने हमारा उत्साहवर्धन किया। पिछले छह वर्षों में हम केवल छत्तीसगढ़ से संबंधित से विषय पर ध्यान केंद्रित करते रहे। इस वर्ष प्रारंभिक परीक्षा के प्रश्न पत्र को देखकर यह अनुभव हुआ कि राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय विषयों पर जिसमें इतिहास, भूगोल, अर्थव्यवस्था, संस्कृति के साथ सम-सामयिक घटनाओं को भी विकास परख की मासिक पत्रिका में सम्मिलित किए जाएं। अत: सातवें वर्ष के पहले अंक से परीक्षार्थियों को छत्तीसगढ़ के साथ प्रारंभिक व मुख्य परीक्षा के भारतीय खंड से संबंधित सामग्री भी भरपूर प्राप्त होगी। इन सामग्रियों से प्रतियोगियों की यथासंभव मदद अपने अनुभव एवं चयनित सामग्री के माध्यम से हम करने का प्रयास करेंगे। पिछले दो वर्षों से निरंतर कागज सहित सभी प्रकार के कच्चे माल की कीमतों में वृद्धि हुई है। यह वृद्धि भी लगभग डेढ़ से दोगुनी है। विगत एक वर्ष से कोरोना महामारी के चलते विकास परख की प्रसार संख्या प्रभावित हुई है। वैसे तो हम सदैव चाहते रहे कि विकास परख की गुणवत्तापूर्ण सामग्री हम न्यूनतम कीमत पर छात्रों को उपलब्ध कराएं। इस अंक से अब भारत के विषय पर एक परिशिष्ठ भी संलग्न होगा इसलिए हम इस माह से विकास परख पत्रिका के मासिक अंक का मूल्य बढ़ाकर 40 रुपए कर रहे हैं। उम्मीद है विकास परख आपके लिए निरंतर सहयोगी बनी रहेगी और आपका समर्थन मिलता रहेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *