केन्द्र की नसीहत- युवा मुगालते में नहीं रहें कि वे जवान हैं, तो कोरोना नहीं करेगी कोई असर

राष्ट्रीय समसामयिक

नई दिल्ली। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने मंगलवार को कहा कि कोविड-19 संबंधी 47 प्रतिशत मौत के मामलों में 60 साल से कम उम्र के लोग शामिल हैं। इनमें दो फीसदी लोग 25 साल से कम उम्र के भी हैं। इसलिए युवा इस मुगालते में नहीं रहें कि वे जवान हैं, उन्हें बीमारी का कोई असर नहीं होगा। वे अपनी धारण बदलें और बचाव के नियमों का पालन करें।
स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने प्रेस कांफ्रेस में कहा कि कोविड-19 संबंधी मौतों में 70 प्रतिशत मामले पुरुषों और 30 प्रतिशत मामले महिलाओं से संबंधित हैं। भूषण ने कहा कि लगभग 53 प्रतिशत मामलों में लोगों की उम्र 60 साल या इससे अधिक रही। मौत के 35 प्रतिशत मामलों में 45-60 वर्ष की उम्र समूह के लोग शामिल रहे हैं। 10 प्रतिशत मामलों में 26-44 वर्ष की उम्र समूह के लोग शामिल रहे। 18-25 वर्ष की उम्र समूह और 17 साल से कम उम्र के लोगों में एक-एक प्रतिशत मौत के मामले देखने को मिले। विभिन्न उम्र समूहों में मृत्युदर के आंकड़े उपलब्ध कराते हुए उन्होंने कहा कि 60 साल और इससे अधिक की उम्र समूह में मौत के मामलों में 24.6 प्रतिशत लोगों को पहले से कोई ना कोई बीमारी थी, जबकि 4.8 प्रतिशत मामलों में लोगों को पहले से कोई बीमारी नहीं थी। उन्होंने बताया कि 45-60 वर्ष उम्र समूह के लोगों की मौत के मामले में 13.9 प्रतिशत रोगी पहले से किसी अन्य बीमारी से पीडि़त थे।
जबकि 1.5 प्रतिशत लोग पहले से किसी अन्य बीमारी से पीडि़त नहीं थे।
45 साल से कम उम्र के रोगियों की मौत के मामले में 8.8 प्रतिशत लोगों को पहले से कोई ना कोई बीमारी थी, जबकि 0.2 प्रतिशत मामलों में लोगों को पहले से कोई बीमारी नहीं थी। उन्होंने बताया कि कुल मृत्युदर में पहले से किसी न किसी बीमारी से पीडि़त लोगों की मृत्युदर 17.9 प्रतिशत है और उन लोगों की मृत्युदर 1.2 प्रतिशत है जिन्हें पहले से कोई बीमारी नहीं थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *