गोधन न्याय योजना: योजना एक लाभ अनेक

छत्तीसगढ़ छत्तीसगढ़ योजनाएं विशेष

रायपुर .छत्तीसगढ़ सरकार की महत्वाकांक्षी गोधन न्याय योजना से सर्वहारा वर्ग को लाभ मिलेगा। हरेली त्यौहार के दिन 20 जुलाई से शुरू की गई इस योजना के तहत राज्य के सभी वर्गो के 65 हजार 694 पशुपालकों में से 46 हजार 964 पशुपालकों ने एक अगस्त तक 82 हजार 711 क्विंटल गोबर बेचा है। गोबर बेचने वालों में से 40 हजार 913 पुरूष और 24 हजार 781 महिला है। इनमें 25 हजार 474 अनुसूचित जनजाति वर्ग के 5 हजार 474, अनुसूचित जाति के 5 हजार 490 और 71 हजार 724 अन्य पिछड़ा वर्ग के पशुपालक शामिल है।
गोधन न्याय योजना के तहत सभी वर्ग को लाभ मिल रहा है। इस योजना के द्वारा गोबर विक्रेता पशुपालकों को लाभ, गोबर के वर्मी कम्पोस्ट खाद बनाने वाले महिला समूहों को लाभ, वर्मी कम्पोस्ट से किसानों को ज्यादा उपज का लाभ, शहरों और गांवों की सड़कों में पशुओं का गोबर नहीं रहने से स्वच्छता का वातावरण, पशुओं को गौठान और घरों में रखने से फसलों को नुकसान नही, महिला स्वसहायता समूहों को गोबर से दीया, लकड़ी, टोकरी आदि बनाकर बेचने से अजीविका, जैविक खाद से शुद्ध अनाज और सब्जियां पैदा होने से लोगों के स्वास्थ्य आदि का लाभ मिलेगा।
गौरतलब है कि राज्य के गोबर बेचने वाले 46 हजार 964 गोबर विक्रेताओं को एक करोड़ 65 लाख रूपए का भुगतान किया जा रहा है। इनमें बस्तर जिले के एक हजार 875 पशुपालकों को 2 लाख तीन हजार रूपए का भुगतान किया जाएगा। इसी प्रकार बीजापुर के 639 पशुपालकों को 97 हजार रूपए, दंतेवाड़ा के 544 पशुपालकों को 97 हजार 658 हजार रूपए, कांकेर के 2 हजार 221 पशुपालकों को 4 लाख 92 हजार रूपए, कोण्डागांव के एक हजार 321 पशुपालकों को एक लाख 9 हजार रूपए, नारायणपुर के 421 पशुपालकों को 40 हजार रूपए, सुकमा के एक हजार 394 पशुपालकों को 2 लाख 16 हजार रूपए, बिलासपुर के 2 हजार 13 पशुपालकों को 3 लाख 65 हजार रूपए, गौरेला-पेन्ड्रा-मरवाही के 744 पशुपालकों को एक लाख 13 हजार रूपए, जांजगीर-चांपा के 2 हजार 235 पशुपालकों को 6 लाख 29 हजार रूपए, कोरबा के 2 हजार 756 पशुपालकों को 8 लाख रूपए, मुंगेली के 902 पशुपालकों को 2 लाख 21 हजार रूपए, रायगढ़ के 2 हजार 335 पशुपालकों को 6 लाख 76 हजार रूपए, बालोद के 2 हजार 228 पशुपालकों को 11 लाख 27 हजार रूपए, बेमेतरा के 637 पशुपालकों को 2 लाख 65 हजार रूपए, दुर्ग के 2 हजार 499 पशुपालकों को 23 लाख 97 हजार रूपए, कवर्धा के 819 पशुपालकों को 5 लाख 14 हजार रूपए, राजनांदगांव के 5 हजार 30 पशुपालकों को 13 लाख 61 हजार रूपए, बलौदाबाजार के एक हजार 108 पशुपालकों को 4 लाख 49 हजार रूपए, धमतरी के 2 हजार 182 पशुपालकों को 11 लाख 49 हजार रूपए, गरियाबंद के 839 पशुपालकों को 3 लाख 46 हजार रूपए, महासमुंद के एक हजार 619 पशुपालकों को 9 लाख 6 हजार रूपए, रायपुर के 3 हजार 698 पशुपालकों को 26 लाख 39 हजार रूपए, बलरामपुर के 858 पशुपालकों को एक लाख 47 हजार रूपए, जशपुर के एक हजार 615 पशुपालकों को एक लाख 69 हजार रूपए, कोरिया के एक हजार 324 पशुपालकों को 2 लाख 50 हजार रूपए, सरगुजा के एक हजार 822 पशुपालकों को 4 लाख 93 हजार रूपए और सूरजपुर जिले के एक हजार 286 गोबर बेचने वाले पशुपालकों को 2 लाख 64 हजार रूपए का भुगतान किया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *