छग में प्रोफेशनल लर्निंग कम्युनिटी के लिए वेब पेज में पंजीयन प्रारंभ

छत्तीसगढ़ छत्तीसगढ़ समसामयिक

प्रोफेशनल लर्निंग कम्युनिटीमें 70 हजार शिक्षक और 4 हजार से अधिक समूह
रायपुर / छत्तीसगढ़ के स्कूलों में कार्यरत शिक्षकों को एक-दूसरे से सीखने और सोशल मीडिया के माध्यम से लगातार एक-दूसरे से जुड़े रहकर अपना शैक्षणिक विकास के उद्देश्य से प्रोफेशनल लर्निंग कम्युनिटी का गठन किया गया है। राज्य में प्रोफेशनल लर्निंग कम्युनिटी के सक्रिय सदस्य और प्रतिमाह किए जाने वाले कार्य की जानकारी के लिए पढ़ई तुंहर दुआर की वेबसाइट सीजीस्कूल डॉट इन में एनआईसी के सहयोग से वेबपेज बनाया गया है। इसमें राज्य में कार्यरत प्रोफेशनल लर्निंग कम्युनिटी को आगामी एक सप्ताह के भीतर अपना पंजीयन कराना है। छत्तीसगढ़ में प्रोफेशनल लर्निंग कम्युनिटी के पंजीयन के लिए वेब पेज में पंजीयन प्रारंभ हो गया है।
राज्य में कार्यरत शिक्षक अपनी रूचि और दक्षता के क्षेत्र का चयन कर समान विचार वाले शिक्षकों का एक दल किसी निश्चित उद्देश्य को लेकर काम करने के लिए अपना प्रोफेशनल लर्निंग कम्युनिटी बनाते हैं। प्रदेश में विभिन्न स्तरों पर ऐसे बहुत से प्रोफेशनल लर्निंग कम्युनिटी मिलकर आपस में कार्य कर रहे हैं। शिक्षकों को अपने-अपने कम्युनिटी में अकादमिक चर्चाओं को प्रोत्साहन देने के उद्देश्य से राज्य स्तर से चर्चा पत्र तैयार कर शिक्षकों को सोशल मीडिया के माध्यम से भेजा जाता है। इसके आधार पर स्कूलों में शिक्षकों द्वारा बहुत से बदलाव लाए गए हैं। पिछली बार इन प्रोफेशनल लर्निंग कम्युनिटी के बारे में फीडबैक लेेते समय लगभग 70 हजार शिक्षक और 4 हजार से अधिक प्रोफेशनल लर्निंग कम्युनिटी की जानकारी मिली थी।
प्रोफेशनल लर्निंग कम्युनिटी के पंजीयन के संबंध में शंकाओं के समाधान और प्रोफेशनल लर्निंग कम्युनिटी द्वारा किए जाने वाले कार्य की जानकारी साझा करने राज्य परियोजना कार्यालय के माध्यम से वेबीनार का आयोजन किया गया। वेबीनार में राज्य भर से कुल 13 हजार से अधिक अधिकारी और शिक्षक शामिल हुए और विभिन्न जिलों से उनकी गतिविधियों की जानकारी दी गई। विकासखंड स्तर पर प्राथमिक स्कूलों से शामिल प्रोफेशनल लर्निंग कम्युनिटी 5 क्षेत्रों में कार्य कर रही है। इसमें प्राथमिक स्तर पर प्रारंभिक भाषा कौशल विकसित करना, सभी कक्षाओं में दस बिग-बुक के माध्यम से चित्र-कहानियों को तैयार करना, प्रारंभिक गणित में बच्चों को कौशल विकसित करने सुझाव, प्रत्येक विद्यार्थी को कम से कम 10 विज्ञान के सरल प्रयोग समझाना और बच्चों को बिना रटे अंग्रेजी में अपनी बात कहने की क्षमता का विकास करना शामिल है।
वेबीनार में मुख्य रूप से प्रोफेशनल लर्निंग कम्युनिटी के गठन की प्रक्रिया और राज्य में पढ़ई तुंहर दुआर कार्यक्रम के अंतर्गत प्रोफेशनल लर्निंग कम्युनिटी के वेबपेज पर जाकर पंजीयन करने की जानकारी एनआईसी के श्री दिनेश साहू द्वारा दी गई। कार्यक्रम में बस्तर से श्री गणेश तिवारी, श्री अजय शर्मा, अंबिकापुर प्रोफेशनल लर्निंग कम्युनिटी समूह से सुश्री रेखा घोष और दल के सदस्य, बालोद से सुश्री नीलम कौर, दुर्ग से श्री रामकुमार वर्मा और श्री विवेकानंदन दल्लीवार, नारायणपुर से श्री उमेश रावत और दल के सदस्य, रायगढ़ से श्री चंद्रशेखर, दंतेवाड़ा से श्री वेदव्यास, कोरबा से सुश्री वसुंधरा कुर्रे, राज्य कार्यालय से श्री आशुतोष पाण्डे, सुश्री रागिनी और आशीष गौतम सहायक कार्यक्रम समन्वयक समग्र शिक्षा शामिल हुए। कार्यक्रम में 13 हजार से अधिक लोग यूट्यूब के माध्यम से इस वेबीनार से जुड़े।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *