इथेनॉल खरीद नयी दर घोषित 

21 0

केंद्रीय मंत्रिमंडल कीआर्थिक मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति ने 1 दिसंबर, 2019 से 30 नवंबर, 2020 तक इथेनॉल आपूर्ति वर्ष के दौरान आगामी चीनी उत्‍पादन मौसम 2019-20 के लिए ईपीबी कार्यक्रम के अंतर्गत विभिन्‍न कच्‍चे मालों से निर्मित इथेनॉल की ऊंची कीमत तय करने समेत निम्‍न को मंजूरी दी है। सभीडिस्टिलरी इस योजना का लाभ प्राप्‍त कर सकते हैं और डिस्टिलरियों की बड़ी संख्‍या ईबीपी कार्यक्रम के लिए इथेनॉल की आपूर्ति कर सकती है। इथेनॉल आपूर्तिकर्ताओं को लाभकारी कीमत मिलने से गन्‍ना किसानों की बकाया राशि को कम करने में मदद मिलेगी। यह प्रक्रिया गन्‍ना किसानों की समस्‍या को कम करने में योगदान देगी।

इथेनॉल मिश्रित पेट्रोल (ईबीपी)

सरकार इथेनॉल मिश्रित पेट्रोल (ईबीपी) कार्यक्रम को लागू करती रही है, जिसके तहत तेल कंपनियों द्वारा अधिकतम 10 प्रतिशत इथेनॉल मिश्रित पेट्रोल की बिक्री की जाती है। यह कार्यक्रम 1 अप्रैल, 2019 से केन्‍द्र शासित प्रदेश अंडमान निकोबार और लक्ष‍द्वीप द्वीपसमूह को छोड़कर पूरे भारत में विस्‍तारित किया गया है, ताकि वैकल्पिक और पर्यावरण अनुकूल ईंधनों के इस्‍तेमाल को बढ़ावा मिले। इस क्रियाकलाप से ऊर्जा संबंधी जरूरतों के लिए आयात पर निर्भरता घटेगी और कृषि क्षेत्र को बल मिलेगा।

इथेनॉल की खरीद बढ़ी

सरकार ने 2014 से इथेनॉल की निर्धारित कीमत अधिसूचित करती रही है। पहली बार 2018 के दौरान, सरकार द्वारा इथेनॉल के उत्‍पादन के लिए व्‍यवहृत कच्‍चे माल के आधार पर इथेनॉल की कीमत घोषित की गई थी। इन निर्णयों से इथेनॉल की आपूर्ति में महत्‍वपूर्ण सुधार हुआ है। इसके परिणामस्‍वरूप सार्वजनिक क्षेत्र कीतेल कंपनियों द्वारा इथेनॉल की खरीद इथेनॉल आपूर्ति वर्ष 2013-14 में 38 करोड़ लीटर से बढ़कर 2018-19 में अनुमानित 200 करोड़ लीटर से अधिक हो गई है।

निरंतर चीनी के अतिरिक्‍त उत्‍पादन से चीनी की कीमत पर दवाब पड़ रहा है। इसके बाद, किसानों के भुगतान के लिए चीनी उद्योग की कम क्षमता के कारण गन्‍ना किसानों की बकाया राशि बढ़ गई है। सरकार ने गन्‍ना किसानों की बकाया राशि में कमी लाने के लिए कई निर्णय किए हैं।

इथेनॉल का घरेलू उत्‍पादन बढ़ाने पर जोर

देश में चीनी का उत्‍पादन सीमित करने और इथेनॉल का घरेलू उत्‍पादन बढ़ाने की दृष्टि से, सरकार ने इथेनॉल उत्‍पादन के लिए बी-हैवी मोलेसों और गन्‍ना रस को मिलाने की अनुमति देने सहित, कई कदम उठाए हैं। मिल पर चीनी की कीमत और कन्‍वर्शन लागत में परिवर्तन होने के कारण, गन्‍ना आधारित विभिन्‍न कच्‍चे मालों से निर्मित इथेनॉल की मिल पर कीमत की समीक्षा करने की जरूरत है। उद्योगजगत की यह भी मांग है कि इथेनॉल के उत्‍पादन के लिए चीनी और चीनी सिरप को शामिल किया जाए, ताकि चीनी मिलों में उपलब्‍ध भंडार और नकद प्रवाह से जुड़ी समस्‍याओं का समाधान करने में मदद मिले।

सभी गन्‍ना आधारित तरीकों से प्राप्‍त इथेनॉल की खरीद के लिए अधिक कीमत की पेशकश के कारण, आंशिक तौर पर गन्‍ना जूस तरीके और शत प्रतिशत  गन्‍ना जूस तरीके के साथ-साथ पहली बार इथेनॉल के उत्‍पादन के लिए चीनी और चीनी सिरप की अनुमति देने से, ईबीपी कार्यक्रम के लिए इथेनॉल की उपलब्‍धता में महत्‍वपूर्ण वृद्धि होने की आशा है। पेट्रोल में अधिक मात्रा में इथेनॉल के मिश्रण के कई फायदे हैं, जैसे- आयात पर निर्भरता में कमी, कृषि क्षेत्र को समर्थन, अधिक पर्यावरण अनुकूल ईंधन, कम प्रदूषण और किसानों के लिए अतिरिक्‍त आय।

 

 

 

Related Post

अपाचे लड़ाकू हेलिकॉप्‍टर वायुसेना बेड़े में शामिल

Posted by - September 3, 2019 0
भारतीय वायुसेना ने एएच-64ई अपाचे लड़ाकू हेलिकॉप्‍टर को अपने बेड़े में शामिल किया। एमआई-35 बेड़े के स्‍थान पर अपाचे लड़ाकूहेलिकॉप्‍टरों की खरीदारी…

पी चिदम्बरम भ्रष्टाचार के आरोप में गिरफ्तार

Posted by - August 22, 2019 0
कांग्रेस ने मामले को राजनैतिक साजिश बताया पूर्व वित्त मंत्री पी चिदम्बरम की मनीलॉन्ड्रिंग मामले में गिरफ्तारी के बाद कांग्रेस…

कुष्ठरोगियों से भेदभाव करने वाले कानून खत्म करने की कवायद

Posted by - August 21, 2019 0
केन्‍द्रीय स्‍वास्‍थ्‍य एवं परिवार कल्‍याण मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने आज विधि एवं न्‍याय और सामाजिक न्‍याय एवं अधिकारिता मंत्रालय को…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *